Navigation

 books@bvks.com  +91-70168 11202
Brhad Mrdanga Member

श्रील प्रभुपाद की सेवा में प्रबल प्रचार

श्रील प्रभुपाद की सेवा में प्रबल प्रचार

By भक्ति विकास स्वामी
 130

"श्रील प्रभुपाद की सेवा में प्रबल प्रचार" पुस्तक की रचना श्रील प्रभुपाद के इस्कॉन के सभी सदस्यों के लिए की गयी है, यह पुस्तक विशेष रूप से उनके लिए है जो कृष्ण के संदेश को प्रबलता, स्पष्टता और उत्साहपूर्वक प्रचार करने के लिए श्रील प्रभुपाद के पदचिन्हों पर चलने की आवश्यकता महसूस करते हैं। प्रबल प्रचार विशेषरूप से उनके लिए है जो श्रील प्रभुपाद की इस भावना को बनाए रखना चाहते हैं कि इस्कॉन एक ऐसा क्रांतिकारी आंदोलन है जो कि समाज में बदलाव ला सकता है, जो लोगों को जीवन के महत्वपूर्ण प्रश्नों की जिज्ञासा करने के लिए प्रेरित कर सकता है और जीवन की समस्याओं का स्थायी समाधान : कृष्णभावनामृत दे सकता है।

प्रबल प्रचार पुस्तक में, भक्ति विकास स्वामी सैकड़ों उद्धरण देते हैं जहाँ श्रील प्रभुपाद स्पष्ट इंगित करते हैं की उनके अनुयायियों को संसार के कल्याण के लिए प्रबलता से बोलना चाहिए और कभी समझौता न करने के शास्त्रों के वास्तविक तरीक़े को अपनाने से शर्माना नहीं चाहिए। शास्त्र कभी भी प्रेम बाँटों जैसी अस्पष्ट धारणाओं की संस्तुती नहीं करते अपितु भौतिक संसार की अवश्यमभावि समस्याओं का समाधान देते है और विशेषरूप से आज के मानव समाज की विनाशकारी अवस्था के लिए प्रासंगिक हैं।

पूर्ण और व्यावहारिक दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए, भक्ति विकास स्वामी ने विभिन्न परिस्थितियों में दृढ़ता पूर्वक बोलने के पक्ष तथा विपक्ष को सावधानीपूर्वक परखा है।

लगभग चालीस वर्षों के व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर लेखक ने निम्नलिखित

विषयों पर चर्चा की है:

● प्रबलता से बोलने का अधिकारी कौन है?

● प्रबल शब्दों का प्रयोग कब करना चाहिए?

● क्या प्रबल प्रचारक कट्टरपंथी होता है?

● क्या प्रबलता से बोलना शालीनता के विपरीत है?

● युक्ति का प्रयोग कब और कैसे किया जाना चाहिए?

“श्रील प्रभुपाद की सेवा में प्रबल प्रचार” का सर्वश्रेष्ठ गुण यह है कि यह पाठकों को यह सतत ध्यान दिलाती है कि इस्कॉन  क्या होना चाहिए - एक विलक्षण जीवंत आध्यात्मिक आंदोलन  - तथा यह उस दर्शन का आधार प्रस्तुत करती है जिसके माध्यम से इस्कॉन अपने मूल गौरव को पुनः स्थापित कर सकता है।


Share:
Nameश्रील प्रभुपाद की सेवा में प्रबल प्रचार
PublisherBhakti Vikas Trust
Publication Year2019
BindingPaperback
Pages281
Weight300 gms
ISBN978-93-82109-58-7

Submit a new review

You May Also Like