Navigation

 books@bvks.com +91-70168 11202
Brhad Mrdanga Member

कृष्णभावनामृत में ब्रह्मचर्य

By भक्ति विकास स्वामी
 130

इस पुस्तक को ब्रह्मïचारी जीवन की 'पथदर्शिका' कहा जा सकता है।

यह पुस्तक विशेषतया उन अनेक निष्ठïवान युवकों के लिए है जो इस्कॉन में सम्मिलित हो रहे हैं, तथापि यह पुस्तक उन सभी भक्तों के लिए भी उपयोगी तथा रुचिकर होगी जो अपने आध्यात्मिक जीवन को सुधारने में गम्भीरतापूर्वक रुचि लेते हैं।


Share:
Nameकृष्णभावनामृत में ब्रह्मचर्य
PublisherBhakti Vikas Trust
Publication Year2012
BindingPaperback
Pages272
Weight310 gms
ISBN81-902332-3-8

Submit a new review

You May Also Like