Navigation

 books@bvks.com +91-70168 11202
Brhad Mrdanga Member

श्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर

श्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर

By भक्ति विकास स्वामी
 120

श्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर ने शुद्ध कृष्णभावनामृत को पुनर्जीवित किया तथा प्रभावशाली शैली में इसके प्रचार द्वारा धार्मिक इतिहास के बहाव को बदल दिया। ढोंगी धर्मों के विरुद्ध संघर्ष में उनकी निडरता ने उन्हें सिंहगुरु की उपाधि दिलाई – फिर भी दिव्य कृष्णप्रेम से आप्लावित होने के कारण उनका हृदय कोमल था।
बीसवीं सदी की शुरुआत में बंगाल मे रहकर और भारत में प्रवास करते हुए, श्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर ने आगामी काल में विश्वव्यापी बनने वाले हरे कृष्ण आंदोलन के प्रसार की नीव रखी और उसके प्रेरक तथा मार्गदर्शक बने।

यह पुस्तक श्रीपाद भक्ति विकास स्वामी द्वारा रचित “श्री भक्तिसिद्धान्त वैभव” के प्रथम खंड में प्रकाशित हुए श्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर के जीवन चरित्र का हिन्दी संस्करण है। श्रील सरस्वती ठाकुर के साथ रहे शिष्यों द्वारा कही गई घटनाओं से भरपूर, ये भक्तिमय, दार्शनिक, सांस्कृतिक, और ऐतिहासिक अध्ययन, परमेश्वर के एक शक्ति सम्पन्न राजदूत की प्रवृत्तियों, उपदेशों, और चरित्र की अनुभूतियाँ प्रदान करता है।


Share:
Nameश्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर
PublisherBhakti Vikas Trust
Publication Year2019
BindingPaperback
Pages155
Weight240 gms
ISBN978-93-82109-62-4
Table Of Contents
  1. अनुक्रमणिका
  2. मंगलाचरण
  3. लेखक का निवेदन
  4. प्रस्तावना
  5. प्रकरण 1
  6. प्रारम्भिक जीवन
  7. प्राकट्य
  8. बाल्यावस्था तथा युवावस्था
  9. प्रकरण 2
  10. संन्यास से पूर्व का जीवन
  11. व्यवसाय
  12. ज्योतिष पर विशेष ध्यान
  13. चातुर्मास का पालन
  14. अन्य विद्वत्तापूर्ण कार्य
  15. दीक्षा
  16. श्री गुरुदेव के प्रति आदरभाव
  17. जगन्नाथ पुरी में
  18. ज्योतिष में किया गया आखिरी कार्य
  19. पूर्व बंगाल तथा दक्षिण भारत
  20. मायापुर में नियुक्ति
  21. शत कोटि नाम
  22. श्री गुरुदेव के साथ लीलाएँ
  23. बालिघाइ में शास्त्रार्थ
  24. गौरभजन की परिपुष्टि
  25. प्रथम काशिमबाजार सम्मिलनी
  26. प्रेस और प्रचार केन्द्र
  27. दो आचार्यों का तिरोधान
  28. श्रील भक्तिविनोद ठाकुर
  29. श्रील गौरकिशोर दास बाबाजी
  30. प्रकरण 3
  31. मिशन के शुरुआती दिन
  32. संन्यास और श्री चैतन्य मठ
  33. कलकत्ता में मिशन की स्थापना
  34. विश्व-वैष्णव राजसभा
  35. प्रकरण 4
  36. त्वरित विस्तारण
  37. मिशन का विस्तारण होता है
  38. 1919
  39. 1920
  40. वैष्णव मंजुषा
  41. पूर्व बंगाल में सूत्रपात
  42. 1921–23
  43. 1924–25
  44. हिंसक हमला
  45. 1926–30
  46. 1930–33
  47. प्रकरण 5
  48. कष्टदायक अन्तर्प्रवाह
  49. बाह्य आडंबर और आलस
  50. कार्यकारी होड़
  51. प्रकरण 6
  52. अपनी लीलाओं का समापन
  53. विदाई का संकेत
  54. अन्तिम दिनों में
  55. तिरोधान
  56. आभार
  57. अन्तिम टिप्पणियाँ

Submit a new review

You May Also Like