Navigation

 books@bvks.com +91-70168 11202
Brhad Mrdanga Member

प्रेमावतार श्री चैतन्य महाप्रभु

प्रेमावतार श्री चैतन्य महाप्रभु

By Bhakti Vikāsa Swami
 40

संपूर्ण विश्व में लाखों व्यक्ति भगवान् श्री चैतन्य के द्वारा प्रदत्त कृष्णभावनामृत के निर्मल पथ का अनुसरण कर रहे हैं। कृष्ण के पवित्र नामों का कीर्तन तथा परमानन्द में नृत्य करते हुए वे केवल कृष्णप्रेम पाने की अभिलाषा रखते हैं, तथा भौतिक भोग को तुच्छ समझते हैं। यह पुस्तक इस धरती को पवित्र करने वाले भगवान् के अवतारों में से सबसे अधिक दयालु तथा उदार अवतार भगवान् श्री चैतन्य महाप्रभु के जीवन तथा उनकी शिक्षाओं का संक्षिप्त परिचय देती है।


Share:
Nameप्रेमावतार श्री चैतन्य महाप्रभु
PublisherBhakti Vikas Trust
Publication Year2017
BindingPaperback
Pages160
Weight140 gms
ISBN978-93-82109-15-0
Table Of Contents

भूमिका

प्रस्तावना

 

1. जन्म तथा बाल लीलाएँ

2. युवा पण्डित

3. दीक्षा तथा संकीर्तन आंदोलन का शुभारम्भ

4. संन्यास ग्रहण और पुरी आगमन

5. दक्षिण भारत यात्रा

6. पुरी लौटना एवं रथयात्रा लीलाएँ

7. उत्तर भारत में यात्रा

8. पुरी भक्तों के संग लीलाएँ

9. अन्तिम वर्ष

 

उपसंहार

 

परिशिष्ट १—श्रीचैतन्य महाप्रभु पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान् हैं

परिशिष्ट २—श्रीचैतन्य महाप्रभु की शिक्षाएँ

परिशिष्ट ३—श्रीचैतन्य महाप्रभु का शिक्षाष्टकम्

 

पारिभाषिक शब्दकोष

लेखक परिचय

आभार

 

Submit a new review

You May Also Like