Navigation

 books@bvks.com +91-70168 11202
Brhad Mrdanga Member

आज की नारी कल की संस्कृति

आज की नारी कल की संस्कृति

By भक्ति विकास स्वामी
 130

यह पुस्तक कृष्णभावनामृत आंदोलन की दिशा के बारे में कुछ पारम्परिक दलील प्रस्तुत करके सुझाव देती है कि हमें श्रील प्रभुपाद की वर्णाश्रम धर्म स्थापित करने की आज्ञा को स्वीकार करना चाहिए और आधुनिक संस्कृति के मानदंड और विचारधाराओं के सामने झुक नहीं जाना चाहिए।


Share:
Nameआज की नारी कल की संस्कृति
Publisherभक्ति विकास ट्रस्ट
Publication Year2016
BindingPaperback
Pages259
ISBN9789382109358

Submit a new review

You May Also Like